ज़ूनोटिक रोग: वर्गीकरण, कारण और प्रभाव

0
606
ज़ूनोटिक रोग
ज़ूनोटिक रोग

मनुष्यों और जानवरों के बीच संपर्क एक सामान्य घटना है। संपर्क के विभिन्न प्रकार होते हैं। ज़ूनोटिक रोग, जिन्हें ज़ूनोज़ के रूप में भी जाना जाता है, उन बीमारियों या संक्रमणों को संदर्भित करते हैं, जो स्वाभाविक रूप से कशेरुक जानवरों और मनुष्यों के बीच प्रसारित हो सकते हैं, या इसके विपरीत।

परिचय

आश्चर्यजनक रूप से, 60% से अधिक मानव रोगज़नक़ों की उत्पत्ति ज़ूनोटिक स्रोतों से हुई है। इस विस्तृत श्रेणी में बैक्टीरिया, वायरस, कवक, प्रोटोजोआ, परजीवी और अन्य रोगजनकों सहित सूक्ष्मजीवों की एक विविध श्रृंखला शामिल है।

जलवायु परिवर्तन, शहरीकरण, पशु प्रवासन और व्यापार, यात्रा और पर्यटन, वेक्टर जीवविज्ञान, मानवजनित कारक और प्राकृतिक घटनाओं जैसे कई कारकों ने जूनोटिक रोगों के उद्भव, पुन: उद्भव, वितरण और पैटर्न को महत्त्वपूर्ण रूप से प्रभावित किया है। जैसे-जैसे समय आगे बढ़ रहा है, उभरती और पुन: उभरती ज़ूनोटिक बीमारियों की संख्या बढ़ती जा रही है।

ज़ूनोटिक रोगों के प्रकार:

ज़ूनोटिक रोगों का व्यापक स्पेक्ट्रम विविध रोगजनकों से उत्पन्न होता है। उनके एटियोलॉजी के आधार पर, ज़ूनोज़ को कई श्रेणियों में वर्गीकृत किया जाता है।

एंथ्रेक्स, साल्मोनेलोसिस, तपेदिक, लाइम रोग, ब्रुसेलोसिस और प्लेग जैसे जीवाणु जनित रोग बैक्टीरिया के कारण होते हैं।

रेबीज़, एक्वायर्ड इम्यून डेफ़िसिएंसी सिंड्रोम (एड्स), इबोला और एवियन इन्फ्लूएंजा सहित वायरल ज़ूनोज़, वायरस के कारण होते हैं।

परजीवी ज़ूनोज़  जैसे ट्राइचिनोसिस, टोक्सोप्लाज़मोसिज़, ट्रेमेटोडोसिस, जिआर्डियासिस, मलेरिया और इचिनोकोकोसिस, परजीवियों के कारण होते हैं।

फंगल ज़ूनोज़ जैसे दाद, फंगल संक्रमण का परिणाम है।

अन्य श्रेणियों में रिकेट्सियल ज़ूनोज़ (जैसे  क्यू-बुखार), क्लैमाइडियल ज़ूनोज़ (जैसे सिटाकोसिस) और अकोशिकीय गैर-वायरल रोगजनक एजेंटों के कारण होने वाली बीमारियाँ शामिल है।

ज़ूनोटिक रोगों के कारण:

ज़ूनोटिक रोगों के विषय में जानकारी जानवरों को पालतू बनाए जाने से मिलती है। जानवरों, पशु उत्पादों या पशु व्युत्पन्नों के संपर्क या उपभोग से जुड़े विभिन्न संदर्भों से ज़ूनोटिक रोगों का संचरण हो सकता हैं। इसमें साहचर्य अंतःक्रिया (पालतू जानवर), आर्थिक गतिविधियाँ (खेती, व्यापार, कसाईखाना आदि), शिकारी व्यवहार (शिकार, जंगली खेल आदि) और अनुसंधान प्रणाली आदि शामिल हैं।

  • जलवायु परिवर्तन, अस्थिर कृषि, वन्यजीव शोषण और भूमि उपयोग परिवर्तन जैसे पर्यावरणीय कारक भूमिका निभाते हैं।
  • बढ़ती हुई गतिशीलता से मानवीय समाज में हुए परिवर्तन ने भी ज़ूनोज़ के प्रसार को बढ़ावा दिया है।
  • भोजन या जल आपूर्ति का संदूषण (Contamination) ज़ूनोटिक रोगजनकों के लिए एक महत्त्वपूर्ण मार्ग है। एस्चेरिचिया कोली और साल्मोनेला जैसे रोगजनक खाद्य जनित बीमारियों में प्रमुख भूमिका निभाते हैं।
  • कृषि, पशुपालन और पशुपालन गतिविधियाँ भी ज़ूनोटिक रोग संचरण के लिए जोखिम उत्पन्न करती हैं। कृषि जानवरों के साथ संपर्क से किसानों या संक्रमित जानवरों के साथ संपर्क वाले व्यक्तियों में बीमारियाँ हो सकती हैं।
  • इसके अतिरिक्त, गहन पशु पालन जैसे सुअर और मुर्गी पालन को ज़ूनोटिक रोगों के फैलने के लिए प्राथमिक जोखिम कारक के रूप में पहचाना गया है।
  • पशु चिकित्सकों को भी ज़ूनोटिक रोगों से संबंधित व्यावसायिक खतरों का सामना करना पड़ता है और उन्हें निरंतर शिक्षा और जागरूकता की आवश्यकता होती है।
  • वन्यजीव व्यापार और वन्यजीवों का शिकार ज़ूनोटिक रोगों के फैलने के जोखिम को बढाता हैं। वन्यजीव व्यापार प्रणाली में विभिन्न जानवरों की प्रजातियों के बीच निकटता भी बीमारियों के संचरण को सुविधाजनक बनाती है।
  • इसके अतिरिक्त, कीट वाहक भी अफ़्रीकी निद्रा रोग, डिरोफ़िलारियासिस और ज़िका बुखार जैसी ज़ूनोटिक बीमारियों को फैलाने में भूमिका निभाते हैं।|
  • पालतू जानवर जैसे कुत्ते और बिल्लियाँ, मनुष्यों में विभिन्न बीमारियाँ फैला सकते हैं। इनमें रेबीज, दाद आदि शामिल हैं।
  • मेले, पशु बाज़ार और पालतू चिड़ियाघरों जैसे जानवरों से जुड़ी प्रदर्शनियाँ भी जूनोटिक रोग के लिए सवांहक का कार्य करते है।
  • शिकार और जंगली मांस के सेवन से ज़ूनोटिक रोग संचरण का खतरा बढ़ जाता है। इसके उदाहरण में सार्स जैसे रोग सार्स आदि शामिल हैं, जिनके बारे में माना जाता है कि इनकी उत्पत्ति जानवरों के शिकार और उपभोग से हुई है।
  • प्राकृतिक आवासों के विनाश से मनुष्य और पशु प्रजातियों में निकटता बढती है, जिससे बीमारियों के संचरण का ख़तरा बढ़ता है।
  • जैव विविधता में कमी और मनुष्य-पशु अंतःक्रिया में परिवर्तन से रोगजनक घटनाओं को बढ़ावा मिलता है।
  • जलवायु परिवर्तन को ज़ूनोटिक रोगों की बढ़ती संख्या के एक कारण के रूप में माना जाता है, क्योंकि यह पारिस्थितिक तंत्र को बाधित करता है और उन प्रजातियों के प्रवासन और संपर्क को बढ़ावा देता है, जो सामान्यत: पर एक-दूसरे के संपर्क में नहीं आते।

ज़ूनोटिक रोगों का प्रभाव

ज़ूनोज़ के प्रभाव का मूल्याँकन रोग की व्यापकता, घटना, रुग्णता, मृत्यु दर और आर्थिक हानि जैसे कारकों पर विचार करके किया जाता है।

  1. शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य
  • प्रभावित व्यक्तियों को प्राय: उन बाधाओं का सामना करना पड़ता है, जो उनके कार्य निष्पादन में बाधा उत्पन्न करती हैं, जिससे उनके परिवार का भरण-पोषण करने की उनकी क्षमता सीमित हो जाती है।
  • ये चुनौतियाँ विशेष रूप से अफ़्रीका और एशिया के अल्पविकसित क्षेत्रों में प्रचलित हैं।
  • कुछ मामलों में, प्रभावित लोग सामाजिक रूप से अलग-थलग हो सकते हैं, जिससे मानसिक स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के प्रति उनकी संवेदनशीलता बढ़ जाती है।
  • एंटीबायोटिक प्रतिरोध एक महत्त्वपूर्ण वैश्विक स्वास्थ्य चुनौती है, जो बैक्टीरियल ज़ूनोज़ के उपचार को और जटिल बनाता है।
  • एंटीबायोटिक-प्रतिरोधी बैक्टीरिया से संक्रमित मरीजों पर विशेष ध्यान और महंगी दवाओं की आवश्यकता होती है, जिससे विशेष रूप से विकासशील देशों में स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली पर बोझ बढ़ता है।
  1. आर्थिक हानि:
  • ज़ूनोटिक रोग न केवल जानवरों की मृत्यु का कारण बनते हैं, बल्कि किसी भी देश के पशुधन क्षेत्र में पर्याप्त आर्थिक हानि भी पहुँचाते हैं।
  • जूनोटिक रोग से ठीक होने के पश्चात् भी पशुओं के स्वास्थ्य और उत्पादकता पर गंभीर असर पड़ता है। इसके परिणामस्वरूप मांस, दूध और अंडे जैसे पशु-व्युत्पन्न उत्पादों के उत्पादन में महत्त्वपूर्ण कमी आती है, जो प्राय: 70% से भी अधिक हो जाती है।
  • परिणामस्वरूप, उच्च प्रोटीन वाले पशु-आधारित खाद्य पदार्थों की उपलब्धता में कमी के कारण मानव स्वास्थ्य और पोषण प्रभावित होता है।
  • ब्रुसेलोसिस और टॉक्सोप्लाज्मोसिस जैसी ज़ूनोटिक बीमारियाँ पशुओं में बांझपन, गर्भपात और कमजोर संतान का कारण बन सकती हैं, जिसके परिणामस्वरूप किसानों और पूरे देश को काफी आर्थिक नुकसान हो सकता है।
  • इसके अतिरिक्त, बीएसई (बोवाइन स्पॉन्गॉर्मॉर्म एन्सेफैलोपैथी), एवियन इन्फ्लूएंजा और एंथ्रेक्स जैसी ज़ूनोटिक बीमारियाँ दुनिया भर में जानवरों, पशु उत्पादों (जैसे मांस, दूध और अंडे) और संबंधित उप-उत्पादों के अंतर्राष्ट्रीय व्यापार को बाधित कर सकती है।
  • ज़ूनोटिक रोग निगरानी, निदान, अलगाव और संगरोध(quarantine) प्रोटोकॉल सहित ज़ूनोज़ नियंत्रण और उन्मूलन के लिए आवश्यक उपायों के कारण अर्थव्यवस्था भी महत्त्वपूर्ण परिणामों को अनुभव करती है।

ज़ूनोटिक रोगों का समाधान

मानव, पशु और पर्यावरणीय स्वास्थ्य के बीच जटिल अंतर्संबंधों को पहचानते हुए, अंतर्राष्ट्रीय संगठनों और शोधकर्ताओं ने “एक स्वास्थ्य” अवधारणा को अपनाया है।

  • वन हेल्थ अवधारणा पशुओं, मनुष्यों और पर्यावरण में स्वास्थ्य को बढ़ावा देने को सुनिश्चित करने के लिए वन्यजीव जीवविज्ञानी, पशुचिकित्सकों, चिकित्सकों, कृषकों, पारिस्थितिकीविदों, सूक्ष्म जीवविज्ञानी, महामारी विज्ञानियों और बायोमेडिकल इंजीनियरों के बीच सहयोग को प्रोत्साहित करती है।
  • इस दृष्टिकोण का मुख्य रूप से विकासशील देशों में ज़ूनोज़ की रोकथाम और नियंत्रण पर ध्यान केंद्रित करके गरीबी उन्मूलन, खाद्य सुरक्षा और स्वास्थ्य सुरक्षा को बढावा दिया जा सकता हैं।
  • बहु-क्षेत्रीय सहयोग और साझेदारी से मानव, पशु और पर्यावरणीय डोमेन में प्रभावी निगरानी और सटीक रणनीतियों को लागू किया जा सकता हैं।
  • यह वन हेल्थ दृष्टिकोण के तहत कई सिफ़ारिशों का प्रस्ताव करता है, जिसमें मानव और पशु स्वास्थ्य एजेंसियों के बीच सहयोग बढ़ाने के लिए “ज़ूनोटिक रोग इकाइयों” की स्थापना करना, इन इकाइयों के लिए राष्ट्रीय रणनीति विकसित करना, ज़ूनोटिक रोग अनुसंधान को प्राथमिकता देने के लिए बहु-विषयक नेतृत्व को शामिल करना और अंतर्राष्ट्रीय सहयोगियों के साथ पशु चिकित्सा सार्वजनिक स्वास्थ्य नीतियों आदि को अपनाना शामिल है।
  • यह ज़ूनोटिक रोगों की रोकथाम और नियंत्रण के लिए वन हेल्थ ज़ूनोटिक रोग प्राथमिकता का सुझाव प्रदान करते है।

निष्कर्ष:

ज़ूनोटिक बीमारियाँ सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए एक बड़ा ख़तरा पैदा करती हैं, जो प्राय: जानवरों से उत्पन्न होती हैं और बाद में मनुष्यों को प्रभावित करती हैं। खान-पान की आदतों में बदलाव, जलवायु परिवर्तन और मानवीय गतिविधियाँ जैसे कारक मानव-वन्यजीव संपर्क में वृद्धि के माध्यम से जूनोटिक रोगों के उद्भव और पुन: उभरने में योगदान करते हैं।

इस प्रकार खतरों से निपटने के लिए एक समग्र और व्यापक दृष्टिकोण की आवयश्कता है। इसके अतिरक्त अंतर्राष्ट्रीय सहयोग और एक एकीकृत दृष्टिकोण भी इस मुद्दे से निपटने में सहायता कर सकता हैं।

सामान्य प्रश्नोत्तर

सामान्य ज़ूनोटिक रोग क्या हैं?

सामान्य ज़ूनोटिक रोग वे रोग हैं जो जानवरों और मनुष्यों के बीच फैल सकते हैं। उदाहरण के रूप में रेबीज, इन्फ्लूएंजा, साल्मोनेलोसिस, लाइम रोग और इबोला आदि शामिल हैं। ये बीमारियाँ संक्रमित जानवरों के सीधे संपर्क, दूषित भोजन या जल के सेवन या मच्छरों और किलनी जैसे रोगाणुओं के संपर्क में आने से फैल सकती हैं।

ज़ूनोटिक रोग क्यों होते हैं?

ज़ूनोटिक बीमारियाँ मनुष्यों और जानवरों के बीच संपर्क और साझा वातावरण के कारण फैलती हैं। जब संक्रामक एजेंट जानवरों से मनुष्यों में प्रवेश करते हैं, तो वे ज़ूनोटिक रोगों का कारण बन जाते हैं। प्राकृतिक आवासों में मानव अतिक्रमण में वृद्धि, वन्यजीव व्यापार, गहन कृषि पद्धतियाँ और जलवायु परिवर्तन जैसे कारक ज़ूनोटिक रोगों के उद्भव और संचरण में योगदान देते हैं।

जूनोटिक रोगों के दो उदाहरण क्या हैं?

ज़ूनोटिक रोगों के दो उदाहरण हैं:
– एवियन इन्फ्लूएंजा (बर्ड फ्लू)
-लाइम की बीमारी

ज़ूनोज़ के चार प्रकार क्या हैं?

ज़ूनोज़ के चार प्रकार हैं:
क) प्रत्यक्ष ज़ूनोज़: जब रोगज़नक़ एजेंट संक्रमित जानवरों या उनके शारीरिक तरल पदार्थों के संपर्क के माध्यम से सीधे जानवरों से मनुष्यों में फैलता है।
ख) अप्रत्यक्ष ज़ूनोज़: रोगज़नक़ एजेंट किसी मध्यवर्ती स्रोत जैसे दूषित भोजन या जल के माध्यम से फैलता है।
ग) वेक्टर-जनित ज़ूनोज़: जब मच्छर, टिक या पिस्सू जैसे वेक्टर रोगज़नक़ को जानवरों से मनुष्यों तक पहुंचाते हैं।
घ) ट्रांसप्लासेंटल ज़ूनोज़: जब रोगज़नक़ एजेंट एक गर्भवती जानवर से उसकी संतानो में अनुवांशिक रूप से स्थान्तरित होता है, जो गर्भावस्था या प्रसव के दौरान मनुष्यों में प्रेषित हो सकता है।

क्या डेंगू एक जूनोटिक रोग है?

नहीं, डेंगू को जूनोटिक बीमारी नहीं माना जाता है। यह डेंगू वायरस के कारण होने वाला एक मच्छर जनित वायरल संक्रमण है, जो मुख्य रूप से संक्रमित एडीज मच्छरों के काटने से मनुष्यों में फैलता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here