राष्ट्रीय एकता दिवस 2023: सरदार वल्लभभाई पटेल की जीवनी और योगदान

0
3003
सरदार वल्लभभाई पटेल के योगदान

31अक्टूबर को सरदार वल्लभभाई पटेल की जयंती के उपलक्ष्य में राष्ट्रीय एकता दिवस के रूप में मनाया जाता है।

राष्ट्रीय एकता दिवस

सरदार वल्लभभाई पटेल के योगदान के कारण उनकी जयंती के उपलक्ष्य में 31 अक्टूबर को राष्ट्रीय एकता दिवस के रूप में मनाया जाता है। 

  • भारत सरकार द्वारा 2014 में शुरू किया गया। यह दिन सरदार वल्लभभाई पटेल के योगदान से स्वतंत्र भारत के राजनीतिक एकीकरण में और भारत की एकता एवं अखंडता को मजबूत करने में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका की याद दिलाता है।
  • यह दिवस विविधता में एकता के महत्त्व को रेखांकित करने के साथ-साथ भारतीय समाज के विविध पहलुओं, जैसे धर्मों, भाषाओं, संस्कृतियों और परंपराओं को दर्शाता है और उनकी सराहना करता है।

सरदार पटेल का प्रारंभिक जीवन

  • सरदार पटेल ने बड़े पैमाने पर स्व-अध्ययन पर जोर दिया। वें वकालत की शिक्षा प्राप्त कर एक वकील बने। वह अपने सटीक कानूनी कौशल के लिए जाने जाते थे। अपनी पत्नी के स्वर्गवास के पश्चात्, वे 1910 में कानून की पढ़ाई के लिए लंदन गए।
  • भारत लौटने के पश्चात्, वह अहमदाबाद में बस गए और एक प्रमुख आपराधिक मामलों से सम्बंधित वकील बन गए। शुरुआती वर्षों में, वे भारतीय राजनीति के प्रति उदासीन थे। लेकिन बाद में, वे महात्मा गांधी के विचारों से प्रभावित होने लगे और 1917 तक उन्होंने गांधीजी के सत्याग्रह के सिद्धांत को अपना लिया।
  • पटेल ने ब्रिटिश नीतियों के विरुद्ध जन आंदोलन आयोजित करने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई और 1917 से 1928 तक अहमदाबाद के नगर आयुक्त और अध्यक्ष के रूप में कार्य किया।

भारत के स्वतंत्रता संग्राम में सरदार वल्लभभाई पटेल के योगदान

भारत के स्वतंत्रता संग्राम में सरदार वल्लभभाई पटेल के योगदान को इस प्रकार देखा जा सकता है:

खेड़ा सत्याग्रह, 1917

  • गुजरात के खेड़ा जिले में एक प्रमुख स्थानीय नेता के रूप में, सरदार पटेल ने सत्याग्रह को संगठित और नेतृत्व करने में महात्मा गांधी को सक्रिय रूप से समर्थन और सहायता प्रदान की।
  • सरदार वल्लभभाई पटेल के योगदान से स्थानीय समुदाय को सशक्त नेतृत्व और दिशा प्रदान की और भूमि राजस्व पर ब्रिटिश द्वारा आरोपित अनुचित कर के विरोध में सम्मिलित होने के लिए उन्हें प्रोत्साहित किया। 
  • उन्होंने विरोध के लिए समर्थन जुटाने के लिए बैठकें, रैलियां और अन्य प्रकार की सार्वजनिक भागीदारी का आयोजन किया।
  • उन्होंने किसानों के मुद्दों का शांतिपूर्ण और न्यायपूर्ण समाधान खोजने के लिए सरकारी अधिकारियों के साथ बातचीत की।

असहयोग आंदोलन, 1920-22

  • सरदार पटेल की असहयोग आंदोलन में सक्रिय भागीदारी वास्तव में महत्वपूर्ण थी और उन्होंने अहमदाबाद और गुजरात में स्वतंत्रता संग्राम पर एक स्थायी प्रभाव छोड़ा।
  • सरदार वल्लभभाई पटेल के योगदान से असहयोग आंदोलन के लिए लगभग 300,000 सदस्यों को भर्ती किया और 1.5 मिलियन रुपये एकत्रित किये।
  • उन्होंने इस क्षेत्र में ब्रिटिश वस्तुओं के बहिष्कार को बढ़ावा देने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन के खिलाफ विरोध के प्रतीकात्मक कार्य के रूप में ब्रिटिश निर्मित वस्तुओं को जलाने के लिए अलाव का आयोजन भी किया। 
  • सरदार वल्लभभाई पटेल के योगदान से आर्थिक और सांस्कृतिक आत्मनिर्भरता के प्रतीक के रूप में खादी के उपयोग की वकालत की।

बारडोली सत्याग्रह, 1928

  • बारडोली सत्याग्रह में सरदार वल्लभभाई पटेल के योगदान के कारण उन्हें लोकप्रिय उपनाम ‘सरदार’ मिला, जिसका अर्थ है ‘नेता’ या ‘प्रमुख’।
  • बारडोली सत्याग्रह के दौरान, सरदार पटेल बारडोली के लोगों के साथ एकजुटता से खड़े थे, जो अंग्रेजों द्वारा लगाए गए भूमि करों के बोझ के साथ-साथ अकाल के विनाशकारी प्रभावों से पीड़ित थे। 
  • भोजन की कमी और उच्च करों के दोहरे संकट ने स्थानीय आबादी को भारी कठिनाइयों का कारण बना दिया था।
  • ग्रामीण प्रतिनिधियों के साथ चर्चा करने और लोगों द्वारा सामना किए जा रहे मुद्दों की गहन समझ प्राप्त करने के पश्चात्, सरदार पटेल ने विद्रोह शुरू किया।
  • बारडोली सत्याग्रह की केंद्रीय रणनीति ब्रिटिश को कर भुगतान का पूर्ण रूप से अस्वीकार करना था। यह अहिंसक प्रतिरोध इतना प्रभावी था कि यह भारत के स्वतंत्रता संग्राम में एक महत्वपूर्ण प्रकरण के रूप में चिह्नित हुआ।

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का नेतृत्व

सरदार पटेल भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (आईएनसी) के एक सक्रिय और प्रभावशाली सदस्य थे। उन्होंने कांग्रेस के अंदर विभिन्न नेतृत्वकारी भूमिकाएँ निभाईं और कई स्वतंत्रता आंदोलन गतिविधियों में भाग लिया।

  • उन्होंने 1931 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के 46वें सत्र (कराची सत्र) की अध्यक्षता की, जिसे गांधी-इरविन पैक्ट की पुष्टि के लिए बुलाया गया था। यह सत्र मौलिक अधिकारों के प्रस्ताव को पारित करने के लिए जाना जाता है।
  • 1934 में, उन्होंने केंद्रीय संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष की भूमिका संभाली।

सविनय अवज्ञा आंदोलन 1930-34

  • पटेल ने सक्रिय रूप से नमक सत्याग्रह में भाग लिया, जो नमक उत्पादन और वितरण पर ब्रिटिश एकाधिकार के खिलाफ एक अहिंसक विरोध था। 
  • दांडी यात्रा के बाद गांधी और पटेल को गिरफ्तार कर लिया गया और सरदार पटेल पर मुकदमा चलाया गया।
  • आंदोलन के दौरान, पटेल ने ब्रिटिश वस्तुओं के बहिष्कार, करों का भुगतान करने से अस्वीकृत और अहिंसक विरोध एवं हड़तालों को बढ़ावा दिया।
  • उन्होंने व्यक्तिगत अवज्ञा की वकालत करने में गांधी के साथ स्वयं को जोड़ा और परिणामस्वरूप, उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया और लगभग 9 महीने के लिए जेल की सजा सुनाई गई।

भारत छोड़ो आंदोलन, 1942

  • 1942 के भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान, सरदार वल्लभभाई पटेल के योगदान ने ब्रिटिश शासन के खिलाफ विरोध प्रदर्शनों और हड़तालों के आयोजन में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई।
  • सरदार पटेल ने पूरे भारत में प्रभावशाली भाषण दिए, लोगों को बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शनों में सम्मिलित होने, सविनय अवज्ञा के आंदोलनों में शामिल होने, कर भुगतान का बहिष्कार करने और सिविल सेवा बंद करने के लिए प्रेरित एवं संगठित किया।
  • उन्होंने आंदोलन का समर्थन करने के लिए धन संग्रहण वाले अभियानों का नेतृत्व करने के साथ-साथ राष्ट्रीय नेताओं को गिरफ्तारी से बचाने के लिए रणनीतियों को लागू किया।

भारत के एकीकरण में सरदार वल्लभभाई पटेल का योगदान

सरदार वल्लभभाई पटेल ने ब्रिटिश शासन से भारत की स्वतंत्रता के बाद के वर्षों में, भारत के एकीकरण में महत्वपूर्ण योगदान दिया। इस दिशा में सरदार वल्लभभाई पटेल के योगदान निम्नलिखित हैं:

देशी रियासतों का एकीकरण

1947 में भारत को स्वतंत्रता मिलने के पश्चात्, 565 से अधिक देशी रियासतें थीं जो प्रत्यक्ष ब्रिटिश नियंत्रण में नहीं थीं। सरदार वल्लभभाई पटेल के योगदान को इन देशी रियासतों को नवगठित भारतीय संघ में एकीकृत करने की भारी चुनौती सौंपी गई थी।

कूटनीति, समझौता और दबाव के संयोजन के माध्यम से वह इन राज्यों को भारत सरकार के अधीन लाने में सफल रहे। इस प्रक्रिया ने भारत की क्षेत्रीय अखंडता और एकता सुनिश्चित की।

प्रशासनिक सुधार

सरदार वल्लभभाई पटेल के योगदान ने नव स्वतंत्र भारत के लिए एकीकृत प्रशासनिक ढाँचा बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

उन्होंने भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के निर्माण में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई, जो भारत की सिविल सेवाओं की रीढ़ बन गई। उन्होंने स्वयं इसे भारत का ‘स्टील फ्रेम’ कहा था।

राष्ट्रीय एकता को बढ़ावा 

उन्होंने एक राष्ट्र के रूप में भारत के विचार को बढ़ावा दिया और इस बात पर जोर दिया कि विविधता के बावजूद देश को एकजुट रहना चाहिए।

इस दिशा में सरदार वल्लभभाई पटेल के योगदान ने उन्हें “भारत के लौह पुरुष” की उपाधि दिलाई।

राष्ट्रीय एकता के प्रति उनकी भूमिकाओं को पहचानने के लिए, गुजरात के केवडिया में सरदार पटेल की एक विशाल प्रतिमा बनाई गई है, जिसे “स्टैच्यू ऑफ यूनिटी” के रूप में जाना जाता है।

सरदार पटेल के अन्य योगदान

  • संवैधानिक भूमिका: उन्होंने विभिन्न संवैधानिक समितियों की अध्यक्षता की, जैसे कि मौलिक अधिकारों पर सलाहकार समिति, अल्पसंख्यकों, जनजातीय और बहिष्कृत क्षेत्रों पर समिति, प्रांतीय संविधान समिति।
  • पदभार: सरदार वल्लभभाई पटेल भारत के पहले गृह मंत्री और उपप्रधान मंत्री थे।

सम्मान और प्रशंसा

  • भारत के लौह पुरुष: भारत की एकता और अखंडता सुनिश्चित करने में उनकी अद्वितीय भूमिका के लिए उन्हें “भारत के लौह पुरुष” की उपाधि से सम्मानित किया गया है। 
  • भारत रत्न: 1991 में, उन्हें मरणोपरांत देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित किया गया। 
  • राष्ट्रीय एकता दिवस: 2014 में, भारत सरकार ने सरदार पटेल की जयंती पर राष्ट्रीय एकता दिवस मनाने की शुरुआत की।
  • स्टैच्यू ऑफ यूनिटी: सरदार पटेल की एक विशाल प्रतिमा 31 अक्टूबर, 2018 को गुजरात के केवडिया में उनकी 143वीं जयंती के अवसर पर अनावरण किया गया था। इस प्रतिमा को स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के रूप में जाना जाता है और यह दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा होने का दावा करती है। 
  • सरदार सरोवर बांध: गुजरात में नर्मदा नदी पर बने सरदार सरोवर बांध का नाम उनके सम्मान में रखा गया है। 
  • सरदार वल्लभभाई पटेल राष्ट्रीय पुलिस अकादमी: हैदराबाद में स्थित पुलिस अधिकारियों के प्रशिक्षण के लिए यह प्रतिष्ठित संस्थान सरदार पटेल के नाम पर है। 

निष्कर्ष

सरदार वल्लभभाई पटेल के योगदान की विरासत भारतीय इतिहास में गहराई से निहित है और इन स्मरणोत्सवों और उनके नाम वाले संस्थानों के माध्यम से लगातार मनाई जाती है। भारत की स्वतंत्रता, एकीकरण और राष्ट्र निर्माण में उनके योगदानों ने देश पर एक अमिट छाप छोड़ी है।

स्त्रोत: Britannica

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here