उत्तर भारत के विशाल मैदान: निर्माण, विशेषताएँ और क्षेत्रीय विभाजन

0
3824
भारत के विशाल मैदान
भारत के विशाल मैदान

हिमालय की तलहटी से बंगाल की खाड़ी तक विस्तारित उत्तर भारत के विशाल मैदान, जिसे सिन्धु-गंगा के मैदान के रूप में भी जाना जाता है, भारत का एक विशाल और उपजाऊ भाग हैं। ये मैदान कई सदियों से सिंधु, गंगा और ब्रह्मपुत्र नदी प्रणालियों के अवसादों के निक्षेपण से निर्मित हुए हैं। ये मैदान भारतीय उप-महाद्वीप के सांस्कृतिक, आर्थिक और पारिस्थितिकीय विकास के लिए अत्यधिक महत्त्व रखते हैं। NEXT IAS का यह लेख महान मैदानों के निर्माण, इसकी प्रमुख विशेषताओं, क्षेत्रीय विभाजनों, भू-आकृति विज्ञान एवं महत्त्व को समझाने का प्रयास करता है।

विशाल मैदान, जिसे सिन्धु-गंगा का मैदान या सिन्धु-गंगा-ब्रह्मपुत्र के मैदान के रूप में भी जाना जाता है, तीन नदियों – सिंधु, गंगा, ब्रह्मपुत्र और उनकी सहायक नदियों द्वारा लाए गए जलोढ़ निक्षेपों से बने एक समवर्धित मैदान को संदर्भित करते हैं। यह भारत के 5 भौगोलिक विभाजनों में से एक है। यह भारत की सबसे नवीन स्थलाकृति होने के साथ-साथ यह विश्व के सबसे विशाल जलोढ़ मैदानों में से एक है।

  • उत्तर-दक्षिण विस्तार: इनका विस्तार हिमालय के दक्षिण से लेकर प्रायद्वीपीय पठार के उत्तरी भाग तक है।
  • पूर्व-पश्चिम विस्तार: इनका विस्तार पश्चिम में सिंधु के मुहाने से लेकर पूर्व में गंगा के ब्रहमपुत्र नदी में विलीन हो जाने तक है।
  • सीमाएँ: ये उत्तर में शिवालिक पर्वतमाला, पश्चिम में रेगिस्तान, दक्षिण में प्रायद्वीपीय पठार और पूर्व में पूर्वांचल पहाड़ियों से घिरे हैं।
  • लंबाई: इस पथ की कुल लंबाई 3200 किलोमीटर है, जिसमें से लगभग 2400 किलोमीटर भारत में और शेष बांग्लादेश में है।
  • चौड़ाई: उनकी औसत चौड़ाई 150-300 किमी है। वे पश्चिम में सबसे चौड़े हैं जहाँ उनकी चौड़ाई 500 किमी तक हो जाती है, और यह चौड़ाई पूर्व की ओर संकीर्ण होती जाती है जहाँ उनकी चौड़ाई 60-100 किमी तक कम हो जाती है।
  • क्षेत्रफल:ये लगभग 7.8 लाख वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैले हुए हैं, जो इसे विश्व के सबसे विशाल जलोढ़ मैदानों में से एक बनाता है।
  • शामिल राज्य : ये पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड और पश्चिम बंगाल के कुछ हिस्सों एवं असम राज्यों में फैले हुए हैं।
  • अत्यधिक क्षैतिज रुप में विस्तारित: चरम क्षैतिजता इस मैदान की एक महत्त्वपूर्ण विशेषता है। लगभग 200 मीटर की औसत ऊंचाई और समुद्र तल से लगभग 291 मीटर की अधिकतम ऊँचाई के साथ, इसका औसत ढाल केवल 15-20 सेमी है।
  • मृदा आवरण: उत्तरी पर्वत से आने वाली नदियाँ भारी मात्रा में अवसाद लेकर आती हैं जो इन अवसादों का मैदानी भागों में निक्षेपण हो जाता हैं। इस प्रकार, इस भाग में समृद्ध और उपजाऊ मृदा आवरण होता है।

ये मैदान तीन प्रमुख नदी प्रणालियों – सिंधु, गंगा और ब्रह्मपुत्र के निक्षेपण से निर्मित हुए हैं। इन नदियों के तलछट ने प्रायद्वीपीय और हिमालय क्षेत्रों के बीच मौजूद व्यापक अवसाद को जमा कर दिया है।

तृतीयक काल में, इंडो-ऑस्ट्रेलियाई प्लेट के यूरेशियन प्लेट की ओर बढ़ने से हिमालय का निर्माण हुआ। इन दो विवर्तनिकी प्लेटों के निरंतर अभिसरण के कारण हिमालय में उत्थान हुआ और एक बड़े सिंक्लाइन अर्थात् अभिनति के रूप में प्रायद्वीप एवं हिमालय के मध्य एक गहरें अवसाद का जमाव प्रारम्भ हुआ है। हिमालय से बहने वाली नदियों के द्वारा अपने साथ बहुत अधिक मात्रा में लाए गए अवसाद के निक्षेपण के परिणामस्वरूप विशाल मैदानों का निर्माण हुआ।

क्षेत्रीय स्तर पर, भारत के विशाल मैदानों को 4 प्रमुख भागों में वर्गीकृत किया गया है:

  1. राजस्थान का मैदान
  2. पंजाब-हरियाणा का मैदान
  3. गंगा का मैदान
  4. ब्रह्मपुत्र मैदान

  • यह क्षेत्र विशाल मैदान के पश्चिमी भाग का निर्माण करता है।
  • इसमें थार या ग्रेट भारतीय रेगिस्तान शामिल है जो पश्चिमी राजस्थान और पाकिस्तान के आसपास के क्षेत्रों को कवर करता है।
  • राजस्थान के मैदान को दो भागों में विभाजित किया जा सकता है:

मरुस्थली

  • राजस्थान के मैदान का पूर्वी भाग, जो रेगिस्तान है, को मरुस्थली के नाम से जाना जाता है।
  • यह मारवाड़ मैदान के एक बड़े भाग को कवर करता है।
  • हालांकि सतह पर यह एक जलोढ़ मैदान जैसा दिखता है, लेकिन भूगर्भिक रूप से यह प्रायद्वीपीय पठार का एक हिस्सा है। यह इस तथ्य से सिद्ध होता है कि इसमें रेत का एक विशाल विस्तार है जिसमे नीस, शिस्ट और ग्रेनाइट की कुछ चट्टानें हैं।
  • इसका पूर्वी भाग चट्टानी है, जबकि पश्चिमी भाग स्थानान्तरित रेत के टीलों से ढका हुआ है, जिन्हें स्थानीय भाषा में धरियान कहा जाता है।

राजस्थान बागर

  • थार मरुस्थल का पूर्वी भाग अरावली पर्वतमाला तक का अर्ध-शुष्क मैदान है जिसे राजस्थान बाग़र के नाम से जाना जाता है।
  • अरावली से निकलने वाली कई छोटी मौसमी धाराएँ इस क्षेत्र में बहती हैं और छोटे- छोटे उपजाऊ क्षेत्रों का निर्माण करते हैं, जिन्हें रोही कहा जाता है।
  • लूनी नदी ऐसी ही एक धारा का उदाहरण है जो अरावली के दक्षिण-पश्चिम में बहती है और कच्छ के रण में गिरती है।
    • लूनी के उत्तरी भाग को थाली या रेतीला मैदान कहा जाता है।
  • थार मरुस्थल में कई खारी झीलें भी हैं जैसे सांभर, डिडवाना, खाटू आदि।
  • यह राजस्थान के मैदान के पूर्व और उत्तर-पूर्व की ओर स्थित है।
  • सम्पूर्ण मैदान पंजाब और हरियाणा राज्यों में उत्तर-पश्चिम से दक्षिण-पूर्व दिशा में 640 किमी की लंबाई तक फैला हुआ है।
  • इसकी औसत चौड़ाई 300 किमी है।
  • मैदान का ढलान दक्षिण-पश्चिम की ओर धीरे-धीरे नीचे की ओर है। अतः इस क्षेत्र में नदियाँ एक ही दिशा में बहती हैं।
  • मैदान अधिकतर भाग गाद से बना है और इसलिए मिट्टी छिद्रपूर्ण है।
    • नदी के किनारों के पास का मैदानी भाग,जो नवीन जलोढ़ के निक्षेपण द्वारा निर्मित होता है, को बेट कहा जाता है।
    • मैदान के तलहटी क्षेत्र, जो बड़े पत्थरों, बजरी, रेत और मिट्टी से बने होते हैं, उन्हें ‘भाबर’ मैदान के रूप में जाना जाता है। (यह मिट्टी जल को नहीं रोक पाती है)।
  • हरियाणा में, यह पूर्व में यमुना नदी से घिरा हुआ है।
  • इस मैदान का पंजाब भाग पाँच नदियों – सतलुज, ब्यास, रावी, चिनाब और झेलम के जलोढ़ निक्षेपों के परिणामस्वरूप निर्मित हुआ है।
  • यही कारण है कि पंजाब के मैदान को ‘पाँच नदियों की भूमि’ भी कहा जाता है।
  • इस मैदान का पंजाब भाग मुख्य रूप से पूर्व से पश्चिम की ओर 5 ‘दोआब‘ (दो संगम नदियों के बीच की भूमि) से बना है, जो इस प्रकार हैं:
    • बिस्त-जालंधर दोआब (Bist-Jalandhar Doab) ब्यास और सतलुज के बीच स्थित है।
    • बारी दोआब (Bari Doab) ब्यास और रावी के बीच स्थित है।
    • रचना दोआब (Rachna Doab) रावी और चिनाब के बीच स्थित है।
    • चाज दोआब (Chaj Doab) चिनाब और झेलम के बीच स्थित है।
    • सिंध सागर दोआब (Sind Sagar Doab) झेलम-चिनाब और सिंधु के बीच स्थित है।

  • पंजाब-हरियाणा मैदान की कुछ महत्त्वपूर्ण विशेषताएँ इस प्रकार देखी जा सकती हैं:
    • बेट भूमि: ये खादर से निर्मित बाढ़ के मैदान हैं, जिनमें प्रत्येक वर्ष उपजाऊ मिट्टी जमा हो जाती है।
    • धाय: ये खादर के विस्तृत बाढ़ के मैदान हैं जो पहाड़ियों से घिरे हुए हैं।
    • चोस: शिवालिक पहाड़ियों से लगे इस मैदान का उत्तरी भाग अनेक जलधाराओं द्वारा भारी रूप से नष्ट हो गया है, जिन्हें चोस कहा जाता है।
  • यह विशाल मैदान का सबसे बड़ा भाग है, जिसका क्षेत्रफल 3.75 लाख वर्ग किमी है।
  • यह मैदान गंगा नदी के हिमालयी और प्रायद्वीपीय सहायक नदियों के जलोढ़ निक्षेपण से बना है।
  • यह दिल्ली से कोलकाता तक उत्तर प्रदेश, बिहार और पश्चिम बंगाल राज्यों में फैला हुआ है।
  • सम्पूर्ण मैदान का सामान्य ढलान पूर्व और दक्षिण-पूर्व की ओर है।
  • भौगोलिक भिन्नताओं के आधार पर, गंगा के मैदान को तीन भागों में विभाजित किया गया है:

ऊपरी गंगा का मैदान

  • स्थान: गंगा के मैदान का सबसे पश्चिमी और ऊपरी भाग।
  • सीमाएँ : उत्तर में शिवालिक, दक्षिण में प्रायद्वीपीय सीमा और पश्चिम में यमुना नदी। इसकी पूर्वी सीमा अस्पष्ट बनी हुई है।
  • औसत ढलान: लगभग 25 सेमी प्रति किमी।
  • महत्त्वपूर्ण विशेषताएँ : बहुत कम ढलान के कारण नदियाँ मैदान में धीमी गति से प्रवाहित होती हैं। इससे नदी की प्रमुख विशेषताओं जैसे नदी द्वारा कटाव, नदी के मोड़, ऑक्सबो झीलें, बांध, छोड़ी गई नदी की धाराएँ, रेतीले क्षेत्र (भूर) आदि का निर्माण होता है।
  • प्रमुख इकाइयाँ (पश्चिम से पूर्व): गंगा-यमुना दोआब, रोहिलखंड मैदान और अवध मैदान।

मध्य गंगा का मैदान

  • स्थान: यह ऊपरी गंगा के मैदान के पूर्व में स्थित है, जो उत्तर प्रदेश और बिहार के पूर्वी भाग में फैला हुआ है।
  • सीमाएँ: उत्तर में हिमालय की तलहटी और दक्षिणी सीमा में प्रायद्वीपीय भाग। इसकी पश्चिमी और पूर्वी सीमाएँ अस्पष्ट बनी हुई हैं।
  • महत्त्वपूर्ण विशेषताएँ: इस क्षेत्र में बहुत कम ढलान के कारण नदियाँ इस समतल भूमि क्षेत्र में धीमी गति से प्रवाहित होती हैं। परिणामस्वरूप इस क्षेत्र में तटबंध, चट्टानें, ऑक्सबो झीलें, दलदल, ताल, खड्ड आदि नदी संबंधी विशेषताओं द्वारा चिह्नित किया गया है।
  • इस क्षेत्र की लगभग सभी नदियाँ अपना मार्ग परिवर्तित करती रहती हैं, जिससे क्षेत्र की बाढ़ की चपेट में आने की संभावना बढ़ जाती है। कोसी नदी इसके लिए विशेष रूप से जानी जाती है, और इसे ‘बिहार का शोक’ कहा जाता है।
  • प्रमुख इकाइयाँ (पश्चिम से पूर्व): गंगा-घाघरा दोआब, घाघरा-गंडक दोआब और गंडक-कोसी दोआब (मिथिला मैदान)।

निचला गंगा का मैदान

  • स्थान: यह मध्य गंगा मैदान के पूर्व में स्थित है, जो बिहार के पूर्वी भाग, सम्पूर्ण बंगाल और बांग्लादेश के अधिकाँश हिस्सों में फैला हुआ है।
  • सीमाएँ : उत्तर में दार्जिलिंग हिमालय, दक्षिण में बंगाल की खाड़ी, पश्चिम में छोटानागपुर उच्चभूमि, और पूर्व में बांग्लादेश सीमा।
  • महत्त्वपूर्ण विशेषताएँ: इस क्षेत्र की सबसे प्रमुख विशेषता डेल्टा निर्माण है, जो इस मैदान के लगभग 2/3 भाग का क्षेत्रफल है।
    • गंगा, ब्रह्मपुत्र के साथ इस मैदान के तटीय भाग पर विश्व के सबसे बड़े डेल्टा का निर्माण करती है। यह डेल्टा, जिसे गंगा-ब्रह्मपुत्र डेल्टा कहा जाता है, मैंग्रोव और रॉयल बंगाल टाइगर के लिए प्रसिद्ध है।
  • यह देश के उत्तर-पूर्वी भाग में स्थित है। इसे ब्रह्मपुत्र घाटी या असम घाटी या असम मैदान के रूप में भी जाना जाता है।
  • हालाँकि इसे गंगा मैदान का पूर्वी विस्तार माना जाता है, यह वास्तव में एक अलग भौगोलिक इकाई है।
  • यह उत्तर में अरुणाचल प्रदेश के पूर्वी हिमालय, पूर्व में पटकाई बूम और नागा पहाड़ियों, दक्षिण में गारो-खासी-जयंतिया और मिकिर पहाड़ियों, और पश्चिम में भारत-बांग्लादेश सीमा एवं निचले गंगा मैदान की सीमा से घिरा हुआ है।
  • इंडो-गंगा मैदान के समान, यह भी ब्रह्मपुत्र नदी और उसकी सहायक नदियों के निक्षेपण कार्य से निर्मित एक जलोढ़ मैदान है।
  • इस घाटी में ब्रह्मपुत्र की सहायक नदियाँ उत्तर की ओर से प्रवाहित होती हैं। इससे कई नदी विशेषताओं का निर्माण होता है जैसे जलोढ़ पंखे, रेत की चट्टानें, नदी के किनारे, ऑक्सबो झीलें, आदि।
    • ब्रह्मपुत्र द्वारा निर्मित माजुली द्वीप, विश्व का सबसे बड़ा नदी द्वीप है।
  • ब्रह्मपुत्र घाटी अपने चाय बागानों के लिए प्रसिद्ध है।

विशाल मैदान की कुछ विशिष्ट भू-आकृति विज्ञान विशेषताओं को इस प्रकार देखा जा सकता है:

  • यह लगभग 8-16 किमी चौड़ाई का एक संकीर्ण बेल्ट है जो विशाल मैदान की उत्तरी सीमा के रूप में पूर्व-पश्चिम दिशा में फैला हुआ है।
  • यह सिंधु नदी से तीस्ता नदी तक शिवालिक की तलहटी के साथ प्रवाहित होता है।
  • इस बेल्ट में जलोढ़ पंखे(Alluvial Fans) होते हैं जो बजरी और कंकड़-जड़ित चट्टानों के रूप में असंबद्ध तलछट के जमा होने से निर्मित होते हैं।
  • इस क्षेत्र में तलछट की छिद्रपूर्ण प्रकृति के कारण जल धाराएँ डूबकर भूमिगत हो जाती हैं। इसलिए, इस क्षेत्र में वर्षा के मौसम को छोड़कर नदी मार्ग शुष्क रहते हैं।
  • यह भाबर क्षेत्र के दक्षिण में स्थित है और इसके समानांतर विस्तारित है।
  • इसकी चौड़ाई 15-30 किमी के मध्य है।
  • भाबर क्षेत्र में भूमिगत प्रवाहित होने वाली धाराएँ इस क्षेत्र में निकलती हैं, जिससे दलदली और नम भूमि का निर्माण होता है।
  • यह तुलनात्मक रूप से महीन जलोढ़ से निर्मित है और वनों से ढका हुआ है।
  • तराई क्षेत्र के अधिकांश हिस्सों को कृषि भूमि में परिवर्तित कर दिया गया है, विशेषकर पंजाब, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड आदि राज्यों में।
  • यह पट्टी नदी तटों के किनारे बाढ़ का मैदान बनाती है।
  • नदियों द्वारा प्रत्येक वर्ष लाया गया नया जलोढ़ इस पट्टी के किनारे निक्षेपित हो जाता है। यह इस क्षेत्र को बहुत उपजाऊ बनाता है।
  • इस क्षेत्र में कैल्शियम युक्त जमाव की अनुपस्थिति इसे व्यापक खेती के लिए बहुत उपयुक्त बनाती है।
  • यह बाढ़ के मैदान के ऊपर बने जलोढ़ सतह को संदर्भित करता है।
  • यह विशाल मैदान का सबसे बड़ा भाग है।
  • इस क्षेत्र की मिट्टी पुराने जलोढ़ से निर्मित होती है और इसे बार-बार नवीनीकृत नहीं किया जाता है। इसलिए, यह क्षेत्र बहुत उपजाऊ नहीं है।
  • इसमें कैल्शियम युक्त जमाव होते हैं, जिन्हें स्थानीय रूप से कंकर के रूप में जाना जाता है।

ये उत्तर प्रदेश और हरियाणा के शुष्क क्षेत्रों में बंजर खारी परत को संदर्भित करते हैं।

ये गंगा नदी के किनारों के पास ऊंचे उठे हुए भूमि के भाग हैं, जो गर्म और शुष्क महीनों में वायु से उड़ने वाली रेत के जमा होने से निर्मित होते हैं।

  • एक बड़ी जनसँख्या का घर: यह विशाल मैदान देश के कुल क्षेत्रफल के एक तिहाई से भी कम भाग में विस्तारित हैं, लेकिन देश की कुल आबादी का 40 प्रतिशत से अधिक यहीं निवास करता है। इन मैदानी इलाकों की समतल और उपजाऊ जलोढ़ मिट्टी बड़े पैमाने पर कृषि गतिविधियों को संभव बनाती है। यही कारण है कि उत्तरी मैदानों को ‘राष्ट्र का अन्न भंडार’ कहा जाता है।
  • कृषि की धरोहर: उपजाऊ जलोढ़ मिट्टी, समतल सतह, धीमी गति से बहने वाली बारहमासी नदियाँ एवं अनुकूल जलवायु इस क्षेत्र में गहन कृषि गतिविधियों को सुगम बनाते हैं। यही कारण है कि उत्तरी मैदानों को राष्ट्र का अन्न भंडार कहा जाता है।
  • सड़कें और रेलवे: सुगम भौगोलिक उच्चावच और टोपोग्राफी के कारण इस क्षेत्र में सड़कों और रेलवे का एक व्यापक नेटवर्क है। जिसके परिणामस्वरूप इस क्षेत्र में व्यापक शहरीकरण और औद्योगीकरण हुआ है।
  • धार्मिक महत्त्व: गंगा और यमुना जैसी पवित्र नदियों के तटों पर कई धार्मिक स्थलों की मौजूदगी के कारण इस क्षेत्र का धार्मिक महत्त्व भी है।

भौगोलिक विशेषता से कहीं अधिक, उत्तर भारत के विशाल मैदान भारतीय सभ्यता के उद्गम स्थल रहे हैं। ये उपजाऊ मैदान सदियों से भारतीय आबादी का पोषण करते रहे हैं। हाल ही में, यह क्षेत्र कुछ खतरों का सामना कर रहा है जैसे घटती उर्वरता, जल की कमी, जनसंख्या विस्फोट आदि। विशाल मैदानों की स्थिरता सुनिश्चित करना न केवल उपमहाद्वीप के लिए बल्कि पूरे विश्व की पारिस्थितिक और सांस्कृतिक विरासत के लिए महत्त्वपूर्ण है। सतत विकास ही आगे बढ़ने का मार्ग है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here