मैंग्रोव वन: विशेषताएँ, खतरे एवं समाधान

0
6963
मैंग्रोव वन
मैंग्रोव वन

मैंग्रोव वनों में विशेष वृक्ष होते हैं जो मुख्य रूप से गर्म भूमध्यरेखीय जलवायु में समुद्र तट और ज्वारीय नदियों के किनारे नमकीन या खारे जल में उगते हैं। वे दुनिया भर में उष्णकटिबंधीय और उपोष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में पाये जाते हैं। मैंग्रोव वनों का सबसे बड़ा क्षेत्र भूमध्य रेखा के समीप है। मैंग्रोव पारिस्थितिकी तंत्र के संरक्षण के लिए अंतर्राष्ट्रीय दिवस प्रतिवर्ष 26 जुलाई को मनाया जाता है।

मैंग्रोव वनों की विशेषताएँ

लगभग 110 प्रकार की मैंग्रोव प्रजातियाँ हैं, लेकिन उनमें से केवल 54 को ही “वास्तविक मैंग्रोव वन” माना जाता है, जो मुख्य रूप से मैंग्रोव आवासों में पाये जाते हैं। मैंग्रोव वनों की निम्नलिखित विशेषताएँ हैं:-

  • उच्च लवणीय सहिष्णुता: ये लवण-सहिष्णु वृक्ष अपने जटिल निस्पंदन और जड़ प्रणालियों के साथ कठोर तटीय वातावरण में रहने के लिए अच्छी तरह से अनुकूलित हैं। ये अलग-अलग आवासों का निर्माण करतें हैं जिन्हें मैंग्रोव बायोम के नाम से जाना जाता है, ये बायोम मैंग्रोव वनों को तेज़ लहरों और तलछट संग्रह से सुरक्षा प्रदान करता है।
  • अद्वितीय अनुकूलन: विभिन्न मैंग्रोव प्रजातियों ने स्वयं को विपरीत वातावरणीय दशाओं से निपटने के लिए विभिन्न अनुकूलन परिस्थितयों को विकसित किया है। उदाहरण के लिए, लाल मैंग्रोव अवस्तंभ मूल या जड़ों का उपयोग करके समुद्रीय जल के ऊपर रहते है और अपनी छाल में मसूर की दाल के माध्यम से वायु को अवशोषित करते है।
    • दूसरी ओर, काले मैंग्रोव में विशेष जड़ जैसी संरचनाएं विकसित होती हैं जिन्हें न्यूमेटोफोरस कहा जाता है जो श्वसन क्रिया के लिए तिनके की तरह जमीन से बाहर निकली रहती हैं और ये जड़ें ऊंची जमीन पर विकसित होती हैं। ये जड़ें पौधों के भीतर पोषक तत्वों के परिवहन में भी मदद करती है।
  • गैसों का प्रत्यक्ष अवशोषण: चूंकि मिट्टी में लगातार जल भरा रहता है, इसलिए मुक्त ऑक्सीजन बहुत कम उपलब्ध होती है, जिससे पौधों में भोजन के निर्माण में बाधा उत्पन्न हो सकती है। लेकिन इस क्षतिपूर्ति के लिए, वे न्यूमेटोफोर्स का उपयोग करके सीधे वायुमंडल से गैसों को अवशोषित करते हैं।
  • लवण की सीमितता: लाल मैंग्रोव में अभेद्य जड़ें होती हैं जो लवण को पौधे के बाकी हिस्सों में प्रवेश करने से प्रतिबंधित करती है। ये वन बहिष्कृत लवण को जड़ के प्रांतस्था में जमा करते हैं।
  • जल का संरक्षण: मेंग्रोव वन अपने पत्तों के छिद्रों की गतिविधियों को नियंत्रित करते हैं और अपने पत्तों के झुकाव को समायोजित करते हैं ताकि बहुत अधिक जल को नष्ट होने से बचाया जा सकें। उदाहरण के लिए, लाल मैंग्रोव को बंद वातावरण में उगाए जाने पर जीवित रहने के लिए ताजे जल के साथ नियमित रूप से छिड़काव की आवश्यकता होती है।
  • जड़ों में विशिष्ट निस्पंदन प्रणाली: वे आवश्यक पोषक तत्वों और जल को अवशोषित करते हुए अतिरिक्त लवण को फ़िल्टर कर सकते हैं। यह क्षमता टिकाऊ जल समाधानों के लिए अलवणीकरण के नये तरीकों को प्रेरित कर सकती है।
  • बीज प्रसारण प्रणाली: बीज उत्प्लावनशील होते हैं, जो उन्हें जल के माध्यम से फैलने में सहायता करते हैं। कुछ मैंग्रोव ऐसे बीजों को उत्पन्न करते हैं जो मूल वृक्ष से जुड़े रहते हुए भी अंकुरित होते हैं। ये बीज अंकुरित फल के भीतर विकसित हो सकते हैं या फैलकर प्रकंद बना सकते हैं, जो तैयार होने वाले अंकुरित पौधे हैं। ये प्रजनक लंबी दूरी तक जल में तैर सकते हैं और तब तक निष्क्रिय रह सकते हैं जब तक कि उन्हें जड़ जमाने और नयें मैंग्रोव वृक्षों के रूप में विकसित होने के लिए उपयुक्त वातावरण नहीं मिल जाता।

भारत में मैंग्रोव वनों के समक्ष ख़तरे?

भारत में मैंग्रोव वनों को कई खतरों का सामना करना पड़ रहा है:

  • पर्यावास का विनाश: शहरीकरण, औद्योगीकरण और तटीय विकास के कारण मैंग्रोव पर्यावास का विनाश, बुनियादी ढांचे और मानव बस्तियों में रूपांतरित हो रहा है।
  • आक्रामक प्रजातियाँ: आक्रामक प्रजातियों के आगमन मैंग्रोव पारिस्थितिक तंत्र के प्राकृतिक संतुलन और जैव विविधता को बाधित कर रहा है।
  • तटीय क्षरण: मैंग्रोव वनों को हटाने से तटीय क्षरण बढ़ सकता है और तूफान एवं सुनामी जैसी प्राकृतिक आपदाओं के प्रति संवेदनशीलता बढ़ सकती है।
  • संसाधनों का दोहन: मैंग्रोव से जुड़ी मत्स्य पालन में अत्यधिक मछली पकड़ने और अस्थिर प्रथाएं पारिस्थितिक संतुलन को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर रही हैं।
  • अत्यधिक दोहन: ईंधन की लकड़ी ईंधन के लिए मैंग्रोव संसाधनों की निरंतर कटाई, इन पारिस्थितिक तंत्रों को असंतुलित एवं प्रदूषित कर रही है।
  • प्रदूषण: कृषि और औद्योगिक अपवाह मैंग्रोव क्षेत्रों में प्रदूषक तत्व प्रवाहित करते हैं, जो जल की गुणवत्ता को प्रभावित करते हैं तथा पौधों एवं जानवरों के जीवन को नुकसान पहुंचाते हैं।
  • जलवायु परिवर्तन: जलवायु परिवर्तन के कारण समुद्र का स्तर बढ़ने से मैंग्रोव क्षेत्र जलमग्न हो सकते हैं, जिससे प्राकृतिक आवास का नुकसान हो सकता है और पारिस्थितिकी तंत्र का लचीलापन कम हो सकता है।
  • अनुपयोगी कटाई: लकड़ी और ईंधन के लिए लकड़ी जैसे संसाधन मैन्ग्रोव पारिस्थितिक तंत्रों को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकते हैं।
  • वनों की कटाई: कृषि या जलीय कृषि के लिए अवैध कटाई और निकासी ने मैंग्रोव पारिस्थितिकी तंत्र एवं उसकी जैव विविधता को महत्त्वपूर्ण रूप से प्रभावित किया है।

भारत में मैंग्रोव वनों की सुरक्षा के उपाय?

मैंग्रोव वनों को बचाने के लिए संरक्षण प्रयासों और टिकाऊ प्रबंधन पद्धतियों के संयोजन की आवश्यकता है। इन मूल्यवान पारिस्थितिक तंत्रों की सुरक्षा और संरक्षण में सहायता के लिए निमंलिखित कदम उठाए गये हैं:-

  • वनारोपण और पुनर्वनीकरण: नष्ट हुए क्षेत्रों को बहाल करने और मैंग्रोव आवरण को बढ़ाने के लिए मैंग्रोव वनीकरण और पुनर्वनीकरण परियोजनाएं शुरू करना।
  • सतत आजीविका: पारिस्थितिकी तंत्र पर दबाव को कम करने के लिए पर्यावरण-पर्यटन, मत्स्य प्रबंधन और मैंग्रोव संसाधनों के गैर-विनाशकारी उपयोग जैसे स्थायी आजीविका विकल्पों को प्रोत्साहित करना चाहियें।
  • प्रदूषण पर नियंत्रण: कृषि और औद्योगिक स्रोतों से होने वाले प्रदूषण को नियंत्रित करने और कम करने के उपायों को लागू करना, जो मैंग्रोव आवासों को नकारात्मक रूप से प्रभावित करते हैं।
  • जलवायु परिवर्तन शमन: ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन को कम करने और समुद्र के बढ़ते स्तर से मैंग्रोव की रक्षा के लिए जलवायु-लचीली पद्धतियों को अपनाकर जलवायु परिवर्तन के प्रभावों का समाधान करना चाहियें।
  • अनुसंधान और निगरानी: मैंग्रोव पारिस्थितिक तंत्र के स्वास्थ्य को समझने और संरक्षण उपायों की प्रभावशीलता का आँकलन करने के लिए वैज्ञानिक अनुसंधान और नियमित निगरानी करना चाहियें।
  • अंतर्राष्ट्रीय सहयोग: साझा मैंग्रोव पारिस्थितिक तंत्र की सुरक्षा और सीमा-पार मुद्दों के समाधान के लिए पड़ोसी देशों के साथ मिलकर कार्य करना चाहियें।
  • संरक्षित क्षेत्रों की स्थापना: मौजूदा मैंग्रोव वनों को और अधिक क्षरण एवं अतिक्रमण से बचाने के लिए राष्ट्रीय उद्यानों और वन्यजीव अभयारण्यों जैसे संरक्षित क्षेत्रों को स्थापित और विस्तारित करना चाहियें।
  • सामुदायिक भागीदारी: मैंग्रोव संरक्षण में स्थानीय समुदायों और हितधारकों को शामिल करना चहिये। निर्णय लेने, टिकाऊ संसाधन उपयोग और पर्यावरण-अनुकूल आजीविका विकल्पों में उनकी सक्रिय भागीदारी को प्रोत्साहित करना चाहिए।
  • प्रवर्तित विनियमन: मैंग्रोव क्षेत्रों के भीतर अवैध कटाई, भूमि रूपांतरण और संसाधन अतिदोहन के खिलाफ कानूनों और विनियमों को सख्ती से लागू करना चाहियें।
  • जागरूकता को बढ़ावा देना: संरक्षण प्रयासों के लिए समर्थन जुटाने के लिए जनता, नीति निर्माताओं और उद्योगों के बीच मैंग्रोव के पारिस्थितिक महत्त्व  के बारे में जागरूकता बढ़ाना।

निष्कर्ष

मैंग्रोव वन तटीय और समुद्री पारिस्थितिक तंत्र का समर्थित करने, आस-पास के क्षेत्रों को सुनामी और चरम मौसम परिवर्तन से बचाने तथा कार्बन का भंडारण करके जलवायु परिवर्तन का मुकाबला करने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इन मूल्यवान पारिस्थितिक तंत्रों और तटीय समुदायों को प्रदान की जाने वाली सेवाओं की सुरक्षा के लिए संरक्षण-प्रयास और टिकाऊ प्रबंधन महत्त्वपूर्ण हैं।

संरक्षण रणनीतियों को लागू करके, भारत अपने मैंग्रोव वनों के संरक्षण और टिकाऊ प्रबंधन में महत्त्वपूर्ण योगदान दे सकता है, जिससे मैंग्रोव वनों का अस्तित्व तथा प्रकृति एवं समाज दोनों को प्रदान की जाने वाली मूल्यवान सेवाएं सुनिश्चित हो सकें।

सामान्य प्रश्नोत्तर (FAQs)

भारत में कितने मैंग्रोव वन हैं?

भारत में लगभग 46 मैंग्रोव प्रजातियों का आवास है, इसके तटीय क्षेत्रों में कई मैंग्रोव वन फैले हुए हैं।

भारत में मैंग्रोव वन कहाँ पाये जाते हैं?

मैंग्रोव वन भारत के तटीय क्षेत्रों में पाये जाते हैं, मुख्य रूप से पश्चिम बंगाल, ओडिशा, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, केरल, गोवा, महाराष्ट्र, गुजरात और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह जैसे राज्यों में।

भारत में शीर्ष 3 सबसे बड़े मैंग्रोव वन कौन से हैं?

भारत में शीर्ष तीन सबसे बड़े मैंग्रोव वन पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश में स्थित सुंदरवन, ओडिशा में भितरकनिका मैंग्रोव और तमिलनाडु में पिचावरम मैंग्रोव वन हैं।

मैंग्रोव को किन खतरों का सामना करना पड़ रहा है?

मैंग्रोव को विभिन्न खतरों का सामना करना पड़ता है, जिनमें शहरीकरण और औद्योगीकरण के कारण प्राकृतिक आवास का विनाश, अत्यधिक दोहन, कृषि और औद्योगिक अपवाह से प्रदूषण, जलवायु परिवर्तन के कारण समुद्र-स्तर में वृद्धि और लकड़ी और कृषि के लिए वनों की कटाई आदि शामिल है। ये खतरे मैंग्रोव पारिस्थितिकी तंत्र के अस्तित्व और संरक्षण के लिए महत्त्वपूर्ण चुनौतियां उत्पन्न करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here