क्रिप्टोकरेंसी: कार्य, लाभ और नुकसान

0
1248

क्रिप्टोकरेंसी, जिसे क्रिप्टो के रूप में भी जाना जाता है, एक प्रकार की डिजिटल मुद्रा है जो सरकार या बैंक जैसे केंद्रीय प्राधिकरण के नियंत्रण के बिना कंप्यूटर नेटवर्क के माध्यम से संचालित होती है। यह एक विकेन्द्रीकृत प्रणाली के रूप में कार्य करती है | इस प्रणाली के अंतर्गत लेन-देन के सत्यापन के साथ यह सुनिश्चित किया जाता है कि इसमें भागीदार व्यक्तियों या पार्टियों के पास वह धनराशि है जो वे होने का दावा करते हैं। इससे संस्थाओं के बीच धन-हस्तांतरित करते समय बैंकों जैसे पारंपरिक मध्यस्थों की भूमिका समाप्त हो जाती है।

क्रिप्टोकरेंसी कैसे कार्य करती है?

  • अलग-अलग सिक्को (coins) का स्वामित्व रिकॉर्ड एक डिजिटल खाते में संग्रहीत किये जाते  हैं, जो कि एक मजबूत क्रिप्टोग्राफी द्वारा सुरक्षित कम्प्यूटरीकृत डेटाबेस है।
  • यह खाता नये  सिक्कों के निर्माण को नियंत्रित करता है, स्वामित्व के हस्तांतरण का सत्यापन करता है और लेन-देन के रिकॉर्ड को बनाये रखता है।
  • करेंसी कहे जाने के पश्चात भी, क्रिप्टोकरेंसी को मुद्रा का पारंपरिक रूप नहीं माना जाता। उन्हें प्राय: वस्तुओं, प्रतिभूतियों या एक विशिष्ट परिसंपत्ति वर्ग के रूप में वर्गीकृत किया जाता है।
  • कुछ क्रिप्टोकरेंसी प्रणालियाँ मुद्रा को बनाये रखने के लिए सत्यापनकर्ताओं का प्रयोग करती हैं।
  • प्रूफ-ऑफ-स्टेक मॉडल में, स्वामी अपने टोकन को संपार्श्विक(collateral) के रूप में दांव पर लगाते हैं और दांव पर लगायी गई राशि के अनुपात में टोकन पर अधिकार प्राप्त करते हैं।
  • टोकन हिस्सेदारी को समय के साथ नेटवर्क शुल्क, नव-निर्मित टोकन या अन्य पुरस्कार प्रणाली के माध्यम से टोकन में अतिरिक्त स्वामित्व प्राप्त हो सकता है।
  • क्रिप्टोकरेंसी पूरी तरह से डिजिटल रूप में उपस्थित है और यह किसी केंद्रीय प्राधिकरण द्वारा जारी नहीं की जाती है।
  • यह करेंसी वितरित लेजर तकनीक से संचालित होती है, सामान्यत: एक ब्लॉकचेन, जो वित्तीय लेनदेन के लिए एक सार्वजनिक डेटाबेस के रूप में कार्य करती है।

जान लैंस्की के अनुसार, एक क्रिप्टोकरेंसी को निम्नलिखित छह शर्तों को पूरा करना होता हैं:

  • यह केंद्रीय प्राधिकरण के बिना वितरित सर्वसम्मति (Distributive consensus) से संचालित होती है।
  • यह क्रिप्टो इकाइयों और उनके स्वामित्व का निरीक्षण करता है।
  • यह नई क्रिप्टो इकाइयों के निर्माण की परिस्थितियों को परिभाषित करता है और उनके स्वामित्व का निर्धारण करता है।
  • क्रिप्टो इकाइयों का स्वामित्व केवल क्रिप्टोग्राफी के माध्यम से ही सिद्ध किया जा सकता है।
  • वर्तमान स्वामित्व के प्रमाण के साथ, क्रिप्टोग्राफ़िक इकाइयों के स्वामित्व को बदलने के लिये लेनदेन किया जा सकता है।
  • स्वामित्व बदलने के लिए विरोधाभासी निर्देशों के मामले में, सिस्टम को उनमें से किसी एक को निष्पादित(executes) करना होता है।

क्रिप्टोकरेंसी के प्रकार

यह करेंसी विभिन्न प्रकार की होती हैं, प्रत्येक का अपना उद्देश्य और कार्य होता है।

  • उपयोगिता आधारित टोकन: ये टोकन जैसे रिपल के एक्सआरपी और एथेरियम के ईथर (ईटीएच), अपने ब्लॉकचेन प्लेटफॉर्म पर विशिष्ट कार्य करते हैं।
  • लेन-देन संबंधी टोकन: ये टोकन भुगतान की एक विधि के रूप में प्रयोग करने के लिये डिज़ाइन किये गए हैं, जिसमें बिटकॉइन सबसे प्रसिद्ध उदाहरण है।
  • गवर्नेंस टोकन: ये टोकन यूनिस्वैप जैसे ब्लॉकचेन प्लेटफॉर्म पर वोटिंग या अन्य अधिकारों का प्रतिनिधित्व करते हैं।
  • प्लेटफ़ॉर्म टोकन: ये टोकन विशिष्ट ब्लॉकचेन का प्रयोग करने के लिये बनाये गए एप्लिकेशन का समर्थन करते हैं जैसे सोलाना।
  • सुरक्षा टोकन: ये टोकन किसी परिसंपत्ति के स्वामित्व का प्रतिनिधित्व करते हैं जिसे स्टॉक की तरह टोकन किया गया है। उदाहरणत: एमएस टोकन है, जो मिलेनियम नीलम का आंशिक स्वामित्व प्रदान करता है।

क्रिप्टोकरेंसी के लाभ

पारंपरिक वित्तीय प्रणालियों की तुलना में क्रिप्टोकरेंसी के कई लाभ है। यहां कुछ प्रमुख बिंदु दिए गए हैं:

  1. विकेन्द्रीकरण: यह करेंसी बैंकों जैसे केंद्रीकृत मध्यस्थों की आवश्यकता के बिना संचालित होती है। इससे विफलता के एकल बिंदु का जोखिम समाप्त हो जाता है, जिससे वित्तीय संकट की संभावना भी कम हो जाती है।
  2. प्रत्यक्ष स्थानान्तरण: यह करेंसी किसी तीसरे पक्ष के बिना सीधे पीयर-टू-पीयर स्थानांतरण सक्षम बनाती है। इससे लेन-देन तेज़ और अधिक कुशल हो सकता है।
  3. तीव्र स्थानांतरण: चूंकि क्रिप्टोकरेंसी में मध्यस्थों की आवश्यकता नही होती है, इसलिये पारंपरिक धन हस्तांतरण की तुलना में विभिन्न पक्षों के मध्य हस्तांतरण तेज़ी से हो सकता है।
  4. निवेश संभावना: इस करेंसी में निवेश से महत्वपूर्ण लाभ की संभावना है। विगत एक दशक में क्रिप्टोकरेंसी बाज़ार का मूल्य बढ़ा है, जिससे पर्याप्त रिटर्न के अवसर मिले हैं।
  5. धन-प्रेषण का सरलीकरण: बिटकॉइन जैसी करेंसी का उपयोग प्रेषण के लिये मध्यवर्ती मुद्राओं के रूप में किया जाता है, इससे सीमा पार धन हस्तांतरण को व्यवस्थित किया जाता है और लागत भी कम आती है।

क्रिप्टोकरेंसी की सीमाएँ

हालाँकि क्रिप्टोकरेंसी लाभ प्रदान करती है, लेकिन विचार करने योग्य उल्लेखनीय कमियाँ भी हैं:

  • छद्म नाम (Pseudonymity): इस करेंसी में लेनदेन पूर्ण रूप से गुमनाम नहीं हैं, बल्कि एक डिजिटल ट्रायल (trail) द्वारा संचालित होते हैं। जिससे सरकारें और जांच एजेंसियां को संभावित रूप से वित्तीय गतिविधियों पर नज़र रखने में परेशानी हो सकती हैं, इससे गोपनीयता को लेकर चिंताएँ बढ़ सकती हैं।
  • आपराधिक गतिविधियां: अपराधियों द्वारा मनी लॉन्ड्रिंग और अवैध खरीदारी जैसी अवैध गतिविधियों के लिए इस करेंसी का प्रयोग किया जा सकता है। रैंसमवेयर हमलों के लिए हैकर्स इस करेंसी का भी प्रयोग करते हैं।
  • धन संकेन्द्रण: इस करेंसी का स्वामित्व प्राय: कुछ लोगों के नियंत्रण में केंद्रित होता है। कम संख्या में पतों (Adresses) में क्रिप्टोकरेंसी के प्रसार का एक महत्वपूर्ण हिस्सा होता है, जिससे धन संबंधी असमानताएँ उत्पन्न हो सकती हैं।
  • ऊर्जा की खपत: इस करेंसी के खनन (Mining) के लिए पर्याप्त ऊर्जा संसाधनों की आवश्यकता होती है, जो पर्यावरणीय चिंताओं को बढाती है। खनन-कार्य प्राय: बड़ी फर्मों द्वारा नियंत्रित होते हैं, जिससे व्यक्तियों की भागीदारी सीमित हो जाती है।
  • सुरक्षा जोखिम: जबकि ब्लॉकचेन तकनीक अपने आप में सुरक्षित है, एक्सचेंज और वॉलेट जैसी ऑफ-चेन स्टोरेज रिपॉजिटरी हैकिंग के प्रति संवेदनशील हो सकती हैं। कई घटनाओं के परिणामस्वरूप क्रिप्टोकरेंसी फंडों को काफी नुकसान हुआ है।
  • कीमत में अस्थिरता: सार्वजनिक बाजारों में व्यवसाय की जाने वाली क्रिप्टोकरेंसी अपनी कीमत में अस्थिरता के लिए जानी जाती है। मूल्य में तीव्र उछाल और गिरावट उन्हें कुछ लोगों के लिए सट्टा या अस्थिर बना सकती है।

निष्कर्ष

यह करेंसी एक नई प्रकार की मुद्रा है जो डिजिटल प्रकृति की है। इसका प्रयोग लेनदेन और कई अन्य कार्य करने के लिए किया जा सकता है। लेकिन यह तकनीक अभी शुरुआती चरण में है और इस तकनीक को लोगों द्वारा स्वीकार किए जाने में समय लगेगा।

इस करेंसी के साथ जुड़ने से पहले लाभ और हानि दोनों पर विचार करना महत्त्वपूर्ण है, क्योंकि वे अंतर्निहित जोखिम और संभावित लाभ के साथ मौजूद होते हैं।

सामान्य प्रश्नोत्तर

क्रिप्टोकरेंसी क्या है और यह कैसे कार्य करती है?

क्रिप्टोकरेंसी मुद्रा का एक डिजिटल रूप है जो सुरक्षित लेनदेन और नई इकाई निर्माण के नियंत्रण के लिए क्रिप्टोग्राफी का प्रयोग  करता है। यह विकेंद्रीकृत नेटवर्क पर कार्य करता है जिसे ब्लॉकचेन कहा जाता है, जो कंप्यूटर के नेटवर्क द्वारा बनाये गए वितरित एकाउंट हैं।

क्रिप्टोकरेंसी लेनदेन को सुरक्षित करने, नई इकाइयों के निर्माण को नियंत्रित करने और परिसंपत्तियों के हस्तांतरण को सत्यापित करने के लिए क्रिप्टोग्राफ़िक तकनीकों का उपयोग करती है। पारदर्शिता और अपरिवर्तनीयता सुनिश्चित करते हुए लेनदेन को ब्लॉकचेन पर रिकॉर्ड किया जाता है।

क्या क्रिप्टोकरेंसी एक अच्छा निवेश है?

क्रिप्टोकरेंसी एक अच्छा निवेश है या नहीं, यह व्यक्तिगत जोखिम सहनशीलता, निवेश लक्ष्य और बाजार स्थितियों सहित विभिन्न कारकों पर निर्भर करता है। क्रिप्टोकरेंसी अपनी अस्थिरता के लिये जानी जाती है, इसकी कीमतों में महत्वपूर्ण उतार-चढ़ाव होता रहता है।

जहां कुछ निवेशकों को पर्याप्त लाभ हुआ है, वहीं अन्य को नुकसान उठाना पड़ा है। निवेश करने से पहले गहन शोध करना, क्रिप्टो बाजार से जुड़े जोखिमों को समझना और विविधीकरण पर विचार करना महत्त्वपूर्ण है।

क्रिप्टोकरेंसी के विभिन्न प्रकार क्या हैं?

क्रिप्टोकरेंसी के कई प्रकार हैं, प्रत्येक की अपनी विशेषताएं और प्रयोग हैं। बिटकॉइन (बीटीसी) पहली और सबसे प्रसिद्ध क्रिप्टोकरेंसी है, जिसे प्राय: मूल्य और डिजिटल सोने का भंडार माना जाता है। एथेरियम (ईटीएच) एक प्रोग्रामयोग्य(programmable) ब्लॉकचेन है जो विकेंद्रीकृत अनुप्रयोगों (dApps) और स्मार्ट अनुबंधों के निर्माण को सक्षम बनाता है।

अन्य उल्लेखनीय क्रिप्टोकरेंसी में रिपल (एक्सआरपी) शामिल है, जो तीव्र और कम लागत वाले अंतरराष्ट्रीय लेनदेन की सुविधा पर केंद्रित है और लाइटकॉइन (एलटीसी), जो बिटकॉइन की तुलना में तीव्र ब्लॉक जेनरेशन और लेनदेन के सत्यापन में कम समय लेते है।

क्या क्रिप्टोकरेंसी सुरक्षित है?

क्रिप्टोकरेंसी की सुरक्षा कई कारकों पर निर्भर करती है। क्रिप्टोकरेंसी कुछ सुरक्षा सुविधाएँ प्रदान करती हैं, जैसे क्रिप्टोग्राफ़िक एन्क्रिप्शन और विकेंद्रीकृत नेटवर्क, जो लेनदेन की सुरक्षा को बढ़ाते हैं।हालाँकि, व्यक्तिगत क्रिप्टोकरेंसी होल्डिंग्स की सुरक्षा विभिन्न जोखिमों के प्रति संवेदनशील है। इन जोखिमों में हैकिंग हमले, फ़िशिंग प्रयास, घोटाले, निजी कुंजी की चोरी और धोखाधड़ी वाले आदान-प्रदान आदि शामिल हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here